जन्म कुंडली देखने का सही तरीका Online Free Kundali कैसे देखें?

जन्म कुंडली देखने का सही तरीका Online Free Kundali कैसे देखें?: भारतीय संस्कृति में जन्म कुंडली का महतवपूर्ण स्थान है। इसलिए जब भी हिन्दू धर्म में किसी बच्चे का जन्म होता है तो उसके जन्म का समय लिख लिया जाता है ताकि उसकी जन्म कुंडली बनवाई जा सके। हिन्दू मान्यता के अनुसार जन्म कुंडली के माध्यम से जातक के भविष्य में घटित होने वाली घटनाओं की जानकारी का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है। बालक के जन्म से लेकर उसके सभी मांगलिक उत्सवों तक में कुंडली की आवश्यकता होती है। सिर्फ इतना ही नहीं किसी विशेष कार्य को आरंभ करने या किसी प्रकार दैहिक, दैविक या आध्यात्मिक कष्ट का काल जानने के लिए भी जन्म कुंडली की आवश्यकता पड़ती है।

पहले के समय में जहाँ लोग जन्म कुंडली बनवाने के लिए पंडितों पर ही निर्भर थे वहीँ आज इन्टरनेट के आ जाने से लोग अपनी जन्म कुंडली ऑनलाइन इन्टरनेट से भी बना लेते है। यह समय की बचत के साथ साथ बिलकुल सटीक जानकारी भी देता है। आज के समय में जहाँ इन्टरनेट के माध्यम से लोग बड़ी ही आसानी से जन्म कुंडली बना लेते है वहीँ अपनी जन्म कुंडली कैसे देखे यह बिना ज्ञान के असंभव है। आज के इस लेख में हम आपको कुंडली देखने का तरीका बताने वाले है जिसका अध्यन करके हम अपनी जन्म कुंडली देख सकते है।

जन्म कुंडली देखने का सही तरीका Online Free Kundali कैसे देखें?
Image Source: Google

जन्म कुंडली क्या है?

जन्म कुंडली जातक के जन्म के समय ग्रहों एवं राशियों की स्थिति को दर्शाते है। यही ग्रहों एवं राशियों की स्थिति किसी भी जातक के जीवन पर परोक्ष रूप से असर डालते है। इन ग्रहों एवं राशियों की स्थिति को जन्म कुंडली में 12 भावों में विभक्त किया जाता है, जिसे 12 घर भी कहा जाता है। यह 12 भाव किसी भी व्यक्ति के जीवन के बारे में बहुत कुछ बता सकते है।

कुंडली कैसे देखें?

किसी भी जन्म कुंडली को देखने के लिए आपको सबसे पहले मूल बातों का ज्ञान होना जरुरी है। आपको राशियों, ग्रहों और घरों के अर्थ और संकेतों को जानने की जरूरत है। आप बाद में अपने ज्ञान को बेहतर बनाने के लिए नक्षत्रों के अर्थ और महत्व को सीख सकते हैं। आपको यह याद रखने की आवश्यकता है कि कौन सी राशि किस ग्रह द्वारा शासित है और कौन सा ग्रह प्रत्येक राशि में उच्च का और नीच का है।

इसके बाद में आपको लग्न, राशियों और घरों में ग्रहों का अर्थ जानना होगा। एक बार जब आप इतना ज्ञान प्राप्त कर लेते है या सीख लेते है , तब आप सामान्य रूप से किसी भी कुंडली को देख व विचार सकते है। इतने ज्ञान की मदद से आप किसी व्यक्ति के मूल लक्षणों और व्यक्तित्व, उनकी बीमारियों आदि के बारे में बता सकते हैं।

यदि आप कुंडली देखने में महारत हासिल करना चाहते है तो आपको उपरोक्त के ज्ञान के साथ साथ योगिनी, दशा, महादशा और अन्तर्दशा का गूढ़ प्राप्त करना होगा। जिसके बाद आप किसी की भी कुंडली से उसके भविष्य में घटने वाली अच्छे और बुरे समय का आकलन कर सकने योग्य हो पाएंगे। यह कुंडली देखने का सही तरीका है।

अपनी जन्म कुंडली देखने का सही तरीका :

किसी भी जन्म कुंडली को देखने का सही तरीका तीन भागों में बांटा गया है पहले तरीके में हम राशियों के बारे में जानेंगे, दुसरे तरीके में हम कुंडली के भाव यानि कि घर के बारे में जानेंगे और तीसरे तरीके में हम प्रत्येक घर में ग्रह की पहचान करेंगे। यहाँ कुंडली देखने के लेख में यह सभी जानकारी संक्षिप्त रूप से दी गयी है। यदि आप कुंडली देखना सीखना चाहते है तो आपको इसके लिए सम्पूर्ण कुंडली ज्ञान प्राप्त करना होगा।

पहला चरण राशियों की पहचान करना:

कुंडली में पहला घर सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यह जातक की लग्न राशि होती है। और लग्न राशि को केंद्र मानकर कुंडली तैयार की जाती है। आपके जन्म के समय आपकी कुंडली के पहले भाव में जो भी राशि है, वही आपकी लग्न राशि बन जाती है। यह लंग्न या पहला घर किसी के शरीर, प्रसिद्धि, शक्ति, चरित्र, साहस, ज्ञान और इसी तरह के लक्षणों का प्रतिनिधित्व करता है। संक्षेप में, आपकी लग्न राशि ही आपके अस्तित्व को परिभाषित करती है, इसलिए कुंडली में लग्न का महत्त्व बहुत ज्यादा होता है।

याद रखने वाली बहुत महत्वपूर्ण बात – किसी की कुंडली में ग्रहों को अंकों को (1-12) और घरों को रोमन संख्याओं (I-XII) द्वारा दर्शाया जाता है।

मेष राशि को नंबर 1 से दर्शाया जाता है।
वृष राशि को 2 अंक से दर्शाया जाता है।
मिथुन राशि को three अंक से दर्शाया जाता है।
कर्क राशि को 4 अंक से दर्शाया जाता है।
सिंह को 5 अंक से दर्शाया जाता है।
कन्या राशि को 6 अंक से दर्शाया जाता है।
तुला राशि को 7 अंक से दर्शाया जाता है।
वृश्चिक को 8 . अंक से दर्शाया जाता है
धनु राशि को 9 अंक से दर्शाया जाता है।
मकर राशि को 10 अंक से दर्शाया जाता है।
कुंभ राशि को eleven अंक से दर्शाया जाता है।
मीन राशि को 12 अंक से दर्शाया जाता है।

कुंडली के भाव की जानकारी करना दूसरा चरण:

जैसा कि बताया कुंडली में 12 घर या भाव होते है जो शारीरिक लक्षणों, रुचियों और विशेषताओं के साथ-साथ जातक के जीवन के कई पहलुओं को दर्शाते हैं। अत: घर में स्थित कोई भी ग्रह या राशि उसके कारकों को प्रभावित करती है और उसी के अनुसार फल देती है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, रोमन अंक गृह संख्या को दर्शाते हैं, और इसके कारक निम्नानुसार बताए गए हैं:

कुंडली का पहला घर – तनु भाव – पहले घर को तनु भव या “स्व” या लग्न भाव का घर भी कहा जाता है। यह भाव शरीर, सम्मान, जन्म स्थान, शक्ति, चरित्र, सहनशक्ति, विशेषताओं आदि जैसे लक्षणों का प्रतिनिधित्व करता है। शरीर के सामान्य लक्षण जैसे कि रंग, निशान या तिल, नींद, बालों की बनावट, सहनशक्ति भी इस चिन्ह द्वारा दर्शाए जाते हैं।

कुंडली का दूसरा घर – धन भाव – दूसरा घर परिवार, वित्त और धन का घर है। यह भाव आपके परिवार के सदस्यों, जीवनसाथी आदि के साथ आपके संबंधों के प्रकार को भी परिभाषित करता है। जैसे धन, प्राथमिक ज्ञान, वित्त, परिवार इत्यादि।

कुंडली का तीसरा घर – सहाय भाव – तीसरा घर छोटे भाई-बहनों, शौक और संचार का घर है। इसके अलावा ज्योतिष में तीसरा भाव साहस, बुद्धि, उच्च माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा आदि का भी प्रतीक होता है।

कुंडली का चौथा घर – बंधु भाव – चौथा घर मां, घरेलू परिवेश, सुख और संपत्ति का प्रतिनिधित्व करता है। यह घर उसके जीवन में आने वाली सुख-सुविधाओं और परेशानियों को प्रभावित कर सकता है।

कुंडली का पांचवां घर – पुत्र भाव – ज्योतिष में पांचवां घर रचनात्मकता, बुद्धि, प्रेम, संबंध और ऐसे सभी भावपूर्ण लक्षणों के बारे में बताता है। यह घर उच्च शिक्षा, रचनात्मकता, बुद्धि, प्रेम और संबंध, संतान, पिछले जीवन जन्मों के कर्मों का भी प्रतिनिधित्व करता है।

कुंडली का छठा घर – अरी भाव – कुंडली में छठा घर कर्ज, पेशे और बीमारियों के बारे में है। यदि आप अपने करियर में प्रगति कर रहे हैं, तो इसका एक कारण इस घर की सकारात्मकता भी हो सकती है। साथ ही, यह घर भविष्यवाणी कर सकता है कि कोई बीमारी आपको कम या ज्यादा कैसे प्रभावित कर सकती है।

कुंडली में सातवां घर – युवती भाव – ज्योतिष में सप्तम भाव पत्नी, पति, साझेदारी, बाहरी यौन अंग, वासना, व्यभिचार, साझेदारी, चोरी आदि जैसे लक्षणों से संबंधित है। व्यापार में साझेदारी भी इस घर से निरूपित होती है।

कुंडली का आठवां घर – रंध्र भाव – ज्योतिष में, आठवां घर मृत्यु, अप्रत्याशित घटनाओं, दीर्घायु, हार, अपमान, अनुचित साधनों के माध्यम से वित्त, मानसिक विकार आदि का प्रतिनिधित्व करता है। इस घर के सकारात्मक और नकारात्मक व्यक्ति पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। .

कुंडली का नवां घर – धर्म भाव – ज्योतिष में नौवां घर पिता, विदेश यात्रा, प्रचार, भाग्य, धर्म आदि के बारे में है। इसके अलावा, घर मनुष्यों में पोषण का भी प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष का दसवां घर – कर्म भाव – ज्योतिष में 10 वां घर करियर, कर्म, नौकरी और पेशे के बारे में है। यह वह भाव है जिसके आधार पर व्यक्ति के पेशे की कुंडली की भविष्यवाणी की जाती है।

ज्योतिष में 11वां घर – लाभ भाव – बड़े भाई-बहनों से लाभ, आपके लक्ष्य, महत्वाकांक्षा, आय आदि। ऐसे लक्षणों का अनुमान ज्योतिष में elevenवें घर को पढ़कर लगाया जा सकता है। यह सभी प्रकृति के लाभ, खोई हुई संपत्ति और लाभ और रिटर्न को भी दर्शाता है।

ज्योतिष में 12 वां घर – व्यय भाव – अंत में, ज्योतिष में 12 वां घर निजी शत्रुओं, बिस्तरों के सुख, मुकदमे, कारावास, गुप्त कार्य, मोक्ष, अस्पताल में भर्ती, वैध के अलावा विपरीत लिंग के साथ वैवाहिक संबंधों का प्रतीक है। दुख, कर्ज, खोया माल आदि।

घर में स्थित कोई भी ग्रह या राशि अपने कारकों को प्रभावित करती है और उस हिसाब से फल देती है।

अपनी कुंडली में नौ ग्रहों की पहचान करना तीसरा चरण:

आपके जन्म के समय ज्योतिष के नौ ग्रहों में से सभी ग्रह किसी न किसी भाव में विराजमान रहते हैं। कभी-कभी एक घर में एक से अधिक ग्रह भी हो सकते हैं। इन ग्रहों में से प्रत्येक ग्रह की अपनी विशेषताएं हैं और विभिन्न राशियों और ग्रहों के संयोजन में अलग-अलग व्यवहार करते हैं। उदाहरण के लिए, शनि ग्रह शुक्र और मेष राशि के ग्रह का शत्रु है। तो अगर ये सभी एक ही घर में हैं, तो परिणाम खराब हो सकते हैं।

लेकिन यह कैसे पता चलता है कि कौन सा ग्रह किसका मित्र है या शत्रु? यह समझना भी आसान है। आपको केवल उच्चाटन और दुर्बलता की शर्तों को समझना है। यहाँ नीचे ग्रह, उनकी स्वराशि, उच्च और नीच राशियों की व्याख्या करने वाली एक तालिका है।

ग्रह स्वराशि उच्च राशि नीच राशि
सूर्य सिंह मेष तुला
चन्द्रमा कर्क वृषभ वृश्चिक
मंगल मेष व वृश्चिक मकर कर्क
बुध मिथुन व कन्या कन्या मीन
गुरु धनु व मीन कर्क मकर
शुक्र वृष व तुला मीन कन्या
शनि मकर, कुम्भ तुला मेष
राहू धनु मिथुन
केतु मिथुन

धनु

 

 

ज्योतिष में 9 ग्रह और उनकी विशेषताएं:

सूर्य – जिसे आकाशीय प्राणियों का राजा भी कहा जाता है, सूर्य सभी ग्रहों को ऊर्जा प्रदान करता है। ऐसा कहा जाता है कि यह दुनिया को अपनी चमक से रोशन करता है ज्योतिष में सूर्य ग्रह”सिंह” राशि पर शासन करता है और “मेष” में उच्च और “तुला” में नीच होता है।

चंद्रमा – चंद्रमा व्यक्ति के “मन” का प्रतिनिधित्व करता है। वैदिक ज्योतिष में यह ग्रह स्त्री प्रकृति का है और जन्म कुंडली में सूर्य के साथ इसकी विपरीत उपस्थिति एक अच्छा योग बनाती है। ज्योतिष में चंद्रमा “कर्क” राशि पर शासन करता है और “वृषभ” में उच्च का और “वृश्चिक” में नीच का होता है।

मंगल: वैदिक ज्योतिष में मंगल लड़ने की क्षमता और आक्रामकता का प्रतिनिधित्व करता है। घर में इसकी उपस्थिति व्यक्ति को एक कठिन परिस्थिति से निपटने के लिए आवश्यक साहस प्रदान करती है। यह “मेष” और “वृश्चिक” पर शासन करता है और “मकर” में उच्च और “कर्क” में नीच का हो जाता है।

बुध – बुध ग्रह व्यक्ति की तार्किक और गणनात्मक क्षमता को दर्शाता है। संकेत को मजाकिया और भगवान का दूत कहा जाता है। बुध “मिथुन” और “कन्या” राशियों पर शासन करता है। यह “कन्या” राशि में उच्च का और “मीन” राशि में नीच का होता है।

बृहस्पति : यह ग्रह व्यक्ति के ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए इसे गुरु या शिक्षक भी कहा जाता है। बृहस्पति ग्रह सबसे अधिक लाभकारी ग्रहों में से एक है। ज्योतिष में बृहस्पति “धनु” और “मीन” पर शासन करता है और “कर्क” में उच्च का और “मकर” में नीच का होता है।

शुक्र – ज्योतिष में शुक्र प्रेम, रोमांस, सौंदर्य और जीवन में ऐसी सभी भावपूर्ण चीजों का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अलावा, इसे किसी व्यक्ति के वित्त से संबंधित भी कहा जाता है। शुक्र ग्रह “वृषभ” और “तुला” पर शासन करता है और “मीन” में उच्च का और “कन्या” में नीच का होता है।

शनि: यह एक ऐसा ग्रह है जो न्याय करने की इच्छा के लिए जाना जाता है। शनि आपके कर्म के आधार पर आपको फल या दंड देता है। साथ ही, यह उस धैर्य को दर्शाता है जो एक व्यक्ति अपने भीतर रखता है। यह चिन्ह “मकर” और “कुंभ” पर शासन करता है और “तुला” राशि में उच्च का और “मेष” राशि में नीच का होता है।

राहु : राहु को भौतिकवादी चीजों का लालच कहा जाता है। हालांकि, विडंबना यह है कि इसे ग्रह होने से रोक दिया गया है और यह अशरीरी है। यह गुण राहु को और अधिक चाहता है क्योंकि यह कभी संतुष्ट नहीं होता है। राहु के लिए कोई विशिष्ट राशि नहीं है क्योंकि यह जिस राशि या ग्रह में बैठता है, उसकी तरह व्यवहार करता है। यह माना जाता है कि यह “वृषभ / मिथुन” में उच्च का और “वृश्चिक / धनु” में नीच का हो जाता है।

केतु : केतु को भी केतु जैसा ग्रह होने का सुख नहीं मिलता। यह एक दानव की पूंछ है। यह केवल ज्ञान की तलाश करता है और मोक्ष का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसा माना जाता है कि केतु मंगल ग्रह की तरह व्यवहार करता है। ज्योतिष में केतु ग्रह “वृश्चिक / धनु” में उच्च का और “वृषभ / मिथुन” में नीच का हो जाता है।

यहाँ आपको तीन चरणों में साधारण रूप से जन्म कुंडली देखने का सही तरीका पता चल गया होगा। इस विद्या में पूर्णता प्राप्त करने के लिए आपको इस क्षेत्र में गहन मेहनत करनी होगी जिसके बाद ही आप इस क्षेत्र में परंगन हो सकते है।

ऑनलाइन जन्म कुंडली कैसे बनाये?

जन्म कुंडली ऑनलाइन फ्री में बन जाती है। आज इन्टरनेट पर बहुत सी ऐसी वेबसाइट है जहाँ आप अपनी जन्म कुंडली फ्री में बना सकते है। जन्म कुनाली कैसे बनाये इस बारे में मैं आपको अगले लेख में विस्तार से बताऊंगा। यहाँ मैं आपको कुछ ऐसी वेबसाइट के बारे में बताने जा रहा हूँ जहाँ से आप आपनी जन्म कुंडली बड़ी ही आसानी से बना सकते है।

अपनी जन्म कुंडली बनाने के लिए आपको अपनी जन्म तिथि, साल, समय और स्थान की पूरी जानकारी होनी चाहिए। इसके बाद आप निचे बताई गयी किसी भी वेबसाइट पर जाकर अपनी जन्म कुंडली ऑनलाइन बना सकते है।

https://www.astrosage.com/https://www.mpanchang.com/https://astrotalk.com/https://www.astroyogi.com/https://vedicrishi.in/

लेख के बारे में:

जन्म कुंडली देखने का सही तरीका लेख आपको कैसा लगा और आपके लिए यह लेख कितना सहायक रहा, हमें कमेंट्स में जरुर बताएं। आपका एक कमेंट हमें आगे लिखने के लिए प्रेरित करता है। यदि कोई भी व्यक्ति जन्म कुंडली देखने का ज्ञान प्राप्त करना चाहता है तो उसे इसी गंभीरता से अध्यन करना होगा। क्यूंकि ज्योतिष अंकों का विज्ञानं है, और अंक विज्ञानं को समझने के लिए गंभीरता से अध्यन करना बहुत जरुरी होता है।

Leave a Comment